अरबों लोगों ने देखी होगी ये PHOTO, लेकिन नहीं जानते होंगे इसकी...

अरबों लोगों ने देखी होगी ये PHOTO, लेकिन नहीं जानते होंगे इसकी सच्चाई

इंटरनेशनल डेस्क.यह फोटो देखकर आपकी पुरानी यादें ताजा हो गई होंगी। क्योंकि, अबसे तकरीबन 16 साल यानी की 24 अगस्त, 2001 में रिलीज हुए माइक्रोसॉफ्ट के ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज एक्सपी पर यही फोटो दिखाई देती थी। माइक्रोसॉफ्ट ने इसे डिफॉल्ट डेस्कटॉप इमेज के तौर पर चुना था। इसके पीछे की दिलचस्प कहानी यह है कि कई सालों तक इस फोटो की सच्चाई सामने नहीं आ सकी थी। कई देशों के नाम पर चर्चा में रही फोटो…
– ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज Xp पर आते ही यह फोटो पॉपुलर हो गई थी। लंबे समय तक इस फोटो की लोकेशन को लेकर कन्फ्यूजन बना रहा था।
– शुरुआत में इसे फ्रांस, इंग्लैंड, स्विटजरलैंड, न्यूजीलैंड के नॉर्थ ओटागो, साउथ-वेस्टर्न वॉशिंगटन और जर्मनी तक का बताया गया।
– यहां तक कि जर्मनी के ‘डच लैंग्वेज एडिशन’ के एनसाइक्लोपीडिया ने तो इसे आयरलैंड की फोटो बता दिया था।
 Interesting story of the Windows XP wallpaper, international news in hindi, world hindi news
ये थी फोटो की असली सच्चाई
– यह फोटो अमेरिका के फेमस फोटोग्राफर चार्ल्स ओ-रियर ने अपने कैमरे में कैद की थी।
– दरअसल, जनवरी 1996 में चाल्र्स किसी काम से कैलिफोर्निया जा रहे थे। इसी दौरान बीच रास्ते में ‘सोनोमा कंट्री’ के पास उन्हें ये खूबसूरत नजारा दिखाई दिया।
– चार्ल्स के पास इस समय हाई रिजॉल्यूशन का कैमरा नहीं था, लेकिन वे अपने पास एक छोटा कैमरा हमेशा रखते थे। इसी से उन्होंने यह खूबसूरत नजारा क्लिक कर लिया। चार्ल्स ने ऐसी चार फोटोज खींची थी।
माइक्रोसॉफ्ट कंपनी को एक झटके में पसंद आ गई थी फोटो
– चार्ल्स के लिए ये फोटोज मामूली ही थीं। कुछ दिनों बाद उन्होंने इन फोटोज को बिल गेट्स की इमेज लाइसेंसिंग सर्विस ‘कोर्बिस’ पर अपलोड कर दिया।
– कंपनी के एक अधिकारी की नजर इन फोटोज पर पड़ीं और उन्हें ये इतनी पसंद आईं कि उन्होंने इसे बिल गेट्स के पास भेज दिया।
– कंपनी के कई अधिकारियों से इन फोटोज को लेकर डिस्कशन किया गया और सभी को ये फोटोज पसंद आईं।
– इसके बाद इन फोटोज को खरीदने के लिए चाल्र्स से संपर्क किया गया। इतनी बड़ी कंपनी से कॉल आने पर चार्ल्स इतने खुश हुए कि वे अपने कैमरा लेकर सीधे ही कंपनी के ऑफिस जा पहुंचे।
– चार्ल्स को इन फोटोज के बदले भारी रकम दी गई। हालांकि, चार्ल्स ने आज तक इस बात का खुलासा नहीं किया कि यह डील कितने रुपए में हुई थी। एक इंटरव्यू में चार्ल्स ने बताया था कि यह कंपनी और उनके बीच की डील थी।
बाद में नहीं दिखा कभी ऐसा नजारा
– ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज Xp पर आते ही यह फोटो पूरी दुनिया में फेमस हो गई थी।
– चार्ल्स द्वारा एक चैनल को 2002 में दिए इंटरव्यू के बाद इस फोटो की सही लोकेशन का खुलासा हुआ।
– इसके बाद कई लोगों ने ‘सोनोमा कंट्री’ जाकर ऐसी ही फोटोज क्लिक करने की कोशिश की, लेकिन ऐसा नजारा दोबारा दिखाई नहीं दिया।
– यहां तक तक ‘पीसीवर्ल्ड’ के सीनियर एडिटर मार्क हैचमैन ने 8 अप्रैल, 2014 को पब्लिश किए गए अपने आर्टिकल में लिखा था कि वे खुद यहां आए थे, लेकिन यहां का नजारा वैसा नहीं था, जैसा चार्ल्स ने अपने कैमरे में कैद किया। इसे चार्ल्स की खुशकिस्मती ही कहा जा सकता है कि उस समय उन्हें यह घाटी हरियाली से भरी और नीले आसमान पर खूबसूरत बादलों से सजी हुई नजर आई थी।